लैला और मजनू की सच्ची प्रेम कहानी

लैला और मजनू की सच्ची प्रेम कहानी ,आज मै ऐसी Love story share करने जा रहा हूं जिसकी पाक मोहब्बत को पूरी दुनिया याद करती। ये कहानी है अरब के रहने वाले 2 प्रेमी केश और लैला की।  


किसी बाबा (फ़क़ीर ) ने बचपन में ही केश को कहा था ये किसी की मोहब्बत में दर-बदर भटकता फिरेगा। ये सुनकर केश के वालिद (पिता ) घबरा गये और सभी दरगाह और मस्जिदों में मन्नते और दुवायें की , पर कुदरत को कुछ और ही मंजूर था। 

Laila aur majnu ki sachi prem kahani
True love story of laila and Majnu


लैला और मजनू की पहली मुलेकात 

केश ने पहली बार लैला को दमिश्क के मदरसे में देखा था और उस पहली नज़र में ही उसका दीवाना बन बैठा।फिर केश के दिल में लैला के लिए ऐसा परवान चढ़ा की वो दुनिया की सभी चीजों को बेगाना कर दिया। 


लोग केश को कहते इश्क के भूत को अपनी सर से उतार दो ये सब बेकार की चीज़ है पर केश कहा सुनने वाला था उनकी बातों को वो तो लैला से ऐसी मोहब्बत कर बैठा था जिसे describe करने की हमारी औकात ही नहीं है।


लैला और मजनू की सच्ची प्रेम कहानी 

केश के इस beintehaan मोहब्बत को देखकर लैला ने भी उसकी feeling को Respect di दी और उसके प्यार में पूरी तरह से पिघल कर उसे वही और उतना प्यार करने लगी जितना केश उससे करता था। 

दोनों ने अपने इस इश्क को मजहब का नाम दिया और इसकी इबादत करने लगे । एक दुसरे का साथ पाकर वो दोनों ज़न्नत की खुशियों को महसूस करने लगे ।


दुनिया ने ना-मंजूर किया इनके इश्क को 

इनकी पाक दिली मोहब्बत को इस दुनिया वालों ने नहीं समझा और एक दुसरे से दूर करने की लाख कोशिशें करने लगे पर ये प्यार के पंछी अपनी जान देने के लिए तैयार थे पर एक दुसरे से अलग होना इन्हें मंजूर नहीं था।
loading...



फिर लैला के घर वालों ने उसे एक कमरे में बंद कर दिया और इस तरह से दो प्रेमी को दुनिया वालों ने finally अलग कर ही दिया ।

प्यार का अंजाम  

इस प्यार की जुदाई  को न लैला बर्दाश्त कर पायी और न ही केश ने। लैला उस बंद कमरे में केश को याद करती और उसकी हर एक आंसू पर केश का नाम होता


दूसरी तरफ केश उसकी याद में शहरों की हर गली में पागलों की तरह मारा फिरता, दर बदर भटकता फिरता । वो लैला की एक दीदार के लिए तरस गया था।लोग केश की ये हालत देखकर इसे पागल कहते और मजनू का  नाम दे दिया। 

सच्चे  प्रेमी ने अपनी जान दे दिए 

इस जुदाई से दोनों एक जिन्दा लाश बन चुके थे।फिर लैला की parents ने उसकी शादी बख्त के साथ जबरदस्ती करा दी और वो अपने शोहर के साथ इराक चली गयी । लैला ने अपने शोहर से कह दी की वो केश से प्यार करती है और आखिरी सांस तक सिर्फ उसकी रहेगी


ये सुनकर बख्त गुस्सा हो गया और उसे तलाक (divorce ) दे दिया । फिर लैला मजनू की तलाश में हर गलियारें में भटकती रही अपनी जुबान पर केश का नाम लिए। फिर दोनों प्रेमी मिल जाते है एक दुसरे से और इस दीदार से दोनों की आँखों में खुसी के आंशु छलक उठती है।


जब ये बात लैला के घर वालों को पता चला तो उसकी अम्मी ने उसे अपने साथ घर ले गए और एक बार फिर दोनों एक दुसरे से जुदा हो गये । लैला इस सदमे को बर्दाश्त नहीं कर सकी और अपनी जान दे दी। जब लैला की मौत की खबर मजनू को मिली तो उसने भी लैला की आह में अपनी जान दे दिया। ये देख कर पूरी दुनिया ने मान लिया इनका प्यार पाक था । 
loading...


फिर जिस दुनिया को इनके प्यार पर ऐतराज़ था वही ने दोनों को एक साथ कबर में दफनाया । जिन्दा रह कर वो साथ नहीं रह पाए पर मरने के बाद उन्हें एक दुसरे का साथ मिल ही गया और इस तरह उनकी मोहब्बत आज हम सब के दिलों में जिन्दा है । 

लैला और मजनू का मज़ार (mausoleum)

 लैला और मजनू का मजार
Liala aur maznu ki mausoleum

यह मजार भारत के Rajasthan राज्य में Anupgarh city ke Binjaur village me स्थित है जो पाकिस्तान के बॉर्डर से महज 2 km की दूरी पर है। local Legend के अनुसार ये दोनों प्रेमी की मृत्यु यही पर हुई थी ।

यहाँ जून के महीने में बड़े ही धूम धाम के साथ मेला का आयोजन होता है और दो प्यार करने वाले यहाँ हजारों के तादाद में आते है और अपनी खुशल प्रेम की कामना करते है।


अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आई तो इसे अपने मित्र के साथ शेयर करना न भूले और आप अपना सुझाव हमें कमेंट कर के भी बता सकते है ।

Previous
Next Post »

2 comments

Click here for comments
Bipin Kumar
admin
9 January 2017 at 15:20 ×

Sir aapkeblog par ko Theam Lga hua hain

Reply
avatar

Please don't use wrong words on comment. ConversionConversion EmoticonEmoticon